सेहतमंद और चटखदार

मानस मनोहर आलू कटोरी चाटइसे बनाने के लिए बहुत ज्यादा सामग्री की जरूरत नहीं होती। अलबत्ता इसे बनाने के लिए थोड़ा पहले से तैयारी जरूर करनी पड़ती है। इसके लिए एक बड़े आकार का या दो मध्यम आकार के उबले आलू और एक कटोरी भिगो कर उबाले हुए काले चने चाहिए। इसके बजाय मूंग या मटर भी ले सकते हैं। आजकल तो बाजार में सब्जी की दुकानों पर भी अंकुरित चने और मूंग के पैकेट मिल जाते हैं। इन्हें पानी उबाल कर उसमें थोड़ी देर तक डाल कर रखें। फिर पंद्रह मिनट बाद छान कर धो लें और अलग रख दें। इसके अलावा कुछ सब्जियां भी ले सकते हैं, जैसे बीन्स, गोभी, मटर, ब्रोकली, मक्के के दाने, शिमला मिर्च, गाजर, चुकंदर। इन्हें भी छोटा-छोटा काट कर उबले हुए पानी में नमक डाल कर थोड़ी देर रखें फिर दस मिनट बाद छान कर धो लें। इन्हें भी उबले कटे आलुओं और चने के साथ अलग रख दें। इसमें एक छोटा टुकड़ा अदरक, दो-तीन हरी मिर्च और हरा धनिया भी काट कर डाल दें। इसे ऐसे ही रखे रहने दें, जब चाट तैयार करेंगे, तब बाकी सामग्री डालेंगे। अब चार-पांच कच्चे आलू का छिलका उतार कर उन्हें मोटे छेद वाले कद्दूकस पर घिस कर पानी में रखें। पांच मिनट बाद पानी को निथारें और दो-तीन बार अच्छी तरह धोएं ताकि यह बिल्कुल सफेद दिखने लगे। फिर थोड़ा-थोड़ा आलू लेकर हथेलियों के बीच दबा कर इसका पूरा पानी निचोड़ लें और एक थाली या परात में फैला कर रख दें। पांच-सात मिनट तक इसे पंखे की हवा में ऐसे ही सूखने दें। अब कद्दूकस किए आलू में एक छोटा चम्मच कुटी लाल मिर्च, एक छोटा चम्मच आरेगेनो और दो से तीन चम्मच मैदा डाल कर अच्छी तरह मिलाएं ताकि सारी सामग्री सारे आलू पर चिपक जाए। इसमें नमक न डालें, नहीं तो आलू पानी छोड़ेंगे और सारी सामग्री को गीला कर देंगे। अब कड़ाही में भरपूर तेल गरम करें। अब एक बड़ी छन्नी या तड़के वाली कलछी में आलू के लच्छे डाल कर चारों ओर फैलाएं और एक कटोरी बीच में रख कर लच्छों को कटोरी का आकार दें। इसे गरम तेल के बीच में डालें। ध्यान दें कि पूरी कलछी तेल में डूब जाए। थोड़ी देर बाद जब आलू सख्त होने लगें, तो बीच में रखी कटोरी के चिमटे से पकड़ कर बाहर निकाल दें। अब इसे बादामी रंग का होने तक सेंकें और तली हुई आलू कटोरी को बाहर रख दें। इसी तरह बाकी कटोरियां भी तैयार कर लें। अब उबली और कटी हुई सब्जियों की चाट बनाएं। उनमें एक से डेढ़ चम्मच चाट मसाला, आधा चम्मच नमक, आधा चम्मच आरेगेनो, आधा चम्मच कुटी लाल मिर्च, आधा चम्मच भुना जीरा पाउडर, दो चम्मच इमली की चटनी डालें और अच्छी तरह मिला लें। चाट तैयार है। इसमें चाहें, तो कुछ दाने अनार के भी डाल सकते हैं, उससे अलग स्वाद आएगा। आलू की कटोरियों में इस चाट को भरें, ऊपर से बारीक बेसन के सेव डालें और परोसें। अगर इसमें दही डाल कर खाना पसंद हो, तो दही फेंट कर ऊपर से डाल सकते हैं। इसे भर पेट खा सकते हैं, सेहत और स्वाद दोनों की दृष्टि से मजेदार व्यंजन है। सूजी भरवां बोंडाअक्सर बोंडा बनाने के लिए आलू की पिट्ठी तैयार करके बेसन के घोल में डुबाया और फिर तल लिया जाता है। यही प्रचलित तरीका है। मगर सूजी यानी रवा से बना बोंडा न सिर्फ पारंपरिक बोंडा से अलग, बल्कि बहुत स्वादिष्ट भी होता है। इसे बनाने के लिए आलू की जगह सब्जियों और चीज का उपयोग करेंगे। पहले कुछ हरी सब्जियां धोकर काट लें। बीन्स, गोभी, गाजर, शिमला मिर्च, मटर, मक्के के दाने वगैरह। सब्जियां आप अपने स्वाद और सुविधा के मुताबिक चुन सकते हैं। इन सारी सब्जियों को चाकू या चॉपर की मदद से बारीक बारीक काटना है ताकि बोंडे में भरने में आसानी हो। अब दो कप सूजी लें। उसमें एक चम्मच कुटी लाल मिर्च, आधा चम्मच साबुत जीरा, चौथाई चम्मच साबुत सौंफ, आधा चम्मच नमक, आधा चम्मच आरेगेनो डालें। ऊपर से दो चम्मच खाने का तेल डालें और थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए सारी सामग्री को फेंट लें। सूजी पानी सोखती है, इसलिए थोड़ा नरम ही रखें। फिर गूंथ कर इसे रोटी के आटे की तरह नरम बना लें। इसे ढंक कर एक तरफ आराम करने को रख दें। अब कड़ाही में एक चम्मच सरसों का तेल गरम करें। उसमें जीरा, सौंफ, एक कटी हरी मिर्च और कढ़ी पत्ते का तड़का दें। फिर कटी हुई सब्जियां छौंके, इसके साथ ही एक चम्मच लहसुन-अदरक का पेस्ट और चौथाई चम्मच नमक डालें और तेज आंच पर चलाते हुए सब्जियों को दो मिनट के लिए भून लें। बस सब्जियों को गरम होने तक पकाना है। आंच बंद कर दें। अलग कटोरे में निकालें और ठंडा होने दें। अब इसमें चौथाई कटोरी चीज, आधा चम्मच कुटी लाल मिर्च, चौथाई चम्मच गरम मसाला, चौथाई चम्मच चाट मसाला डालें और अच्छी तरह मिला लें। बोंडे की भरावन तैयार है। अब एक कड़ाही में तलने के लिए तेल गरम करें। सूजी के गूंथे हुए आटे में से छोटा-छोटा टुकड़ा लेकर हथेली पर मलें और फिर कटोरी का आकार बनाएं। उसमें सब्जी और चीज की भरावन भरें और अच्छी तरह बंद कर गोलाकार बना लें। इन बोंडों को तेल में डालते जाएं और पलटते हुए सुनहरा होने तक तलें। सूजी के बोंडे तैयार हैं। ऊपर से बिल्कुल करारे और भीतर से नरम मुलायम। इमली की चटनी, हरी चटनी, टमाटर सॉस या फिर मियोनीज वगैरह, जिसके साथ पसंद हो खाएं।

सेहतमंद और चटखदार

Leave a Reply